चार धाम यात्रा का समापन परिणाम उत्साह जनक है, धन्यवाद कर्नल कोठियाल Chardham Yatra back on track, kudos to Col. Kotiyal, Uttarakhand Govt

चार धाम यात्रा का समापन परिणाम उत्साह जनक है, धन्यवाद कर्नल कोठियाल Chardham Yatra back on track, kudos to Col. Kotiyal, Uttarakhand Govt


नेहरु पर्वतारोहण संस्थान के प्राचार्य कर्नल अजय कोठियाल और उनकी टीम के प्रयासों से और राज्य सरकार की अथक कोशिशों से चार धाम यात्रा फिर से पटरी पर लौट आई है, बता रहे हैं पुरुषोत्तम असनोड़ा


त्तराखण्ड के चार धामों के कपाट बन्द होने के साथ इस वर्ष की चार धाम यात्रा भी सम्पन्न हो गयीं। वर्ष 2013 की प्राकृतिक आपदा के बाद यात्रा को ढर्रे पर लाने के सरकार के भरकस प्रयासों का परिणाम है कि इस बार यात्रियों की संख्या आपदा से पहले के वर्षों की 50 प्रतिशत पहुंच गयी है। आपदा से पहले लगभग 15-16 लाख यात्री गंगोत्री, यमुनोत्री, केदारनाथ व बदरीनाथ धाम पहुंचते थे। इस साल यह आंकडा 7-8 लाख के करीब पहुंच गया है।


सन् 2013 की आपदा के बाद यह कल्पना करना भी मुश्किल हो रहा था कि यात्रा कभी प्रारम्भ भी की जा सकेगी अथवा सुचारु रुप से चलायी जा सकेगी? नेहरु पर्वतारोहण संस्थान के प्राचार्य कर्नल अजय कोठियाल के रुप में केदार धाम को ऐसे विश्वकर्मा मिले जो कम से कम भारत और नही तो उत्तराखण्ड की निर्माण सेवाओं में तो संभव सा नही था। आलोचना-प्रत्यालोचना के बीच निश्चित रुप से सरकार ने कमर कसी और यात्रा प्रारम्भ हो गयी। उसे प्रारम्भ करने में कितने घपले-घोटाले रहे होंगे ये अलग विषय है।

kedarnath col kotiyal

नेहरु पर्वतारोहण संस्थान के प्राचार्य कर्नल अजय कोठियाल पूर्व राष्ट्रपति प्रतिभा पाटिल के साथ


चार धाम यात्रा उत्तराखण्ड के लिए कितनी महत्व पूर्ण ये केवल दो साल में यात्रा से जुडे लोग बता सकतेे हैं जिनके चूल्हे बुझने की नौवत थी, बैंकों से लिय उधार नही दिया जा सका था और बच्चों की पढाई-लिखाई, चिकित्सा सुश्रुषा, शादी-विवाह के साथ भविष्य की चिन्ताओं ने सिर उठा लिया था। आज सब कुछ सामान्य हो जाने की बात करना अपने आप को धोखा देना है और उत्तराखण्ड जैसे राज्य में जो त्रिकोण है उसके भरोसे कुछ भी सामान्य हो नही सकता। इस सब के बावजूद यदि चार धाम यात्रा 50 प्रतिशत तक पहुंच गयी है तो हरीश रावत सरकार के प्रयासों को श्रेय दिया जाना चाहिए।


धन्यवाद कर्नल कोठियाल और आपकी टीम।

kedarnath

2013 आपदा के बाद केदारनाथ


साभार: गैरसैंण समाचार (द्वारा फेसबुक)

Follow us: Uttarakhand Panorama@Facebook and UKPANORAMA@Twitter

0 Comments

No Comments Yet!

You can be first to comment this post!

Leave a Reply

seventeen + sixteen =