नानीसार भूमि आंदोलन की आग दिल्ली पहुंची Social groups, political parties oppose blatant violation of land rules

नानीसार भूमि आंदोलन की आग दिल्ली पहुंची Social groups, political parties oppose blatant violation of land rules

 

ग्राम नानीसार (डीडा-द्वारसों, जनपद-अल्मोड़ा, उत्तराखंड) की 353 नाली (7.061 हेक्टेयर) भूमि उत्तराखंड सरकार द्वारा जिंदल औद्योगिक घराने की हिमांशु एजुकेशन सोसाइटी (दिल्ली) को अनुचित ढंग से आवंटित किये जाने के विरोध में उत्तराखंड में चल रहे आंदोलन के समर्थन में दिल्ली में एक-दिवसीय सामूहिक धरना 28 नवंबर 2015 को जंतर-मंतर में आयोजित हुआ।


धरना आयोजकों के अनुसार– “दुर्भाग्य से मुख्यमंत्री हरीश रावत का कहना है कि नानीसार तो शुरुआत भर है. उत्तराखंड में अब ऐसा कई जगह होगा. अर्थात, आपके और मेरे गांव की जमीन भी किसी जिंदल, किसी अम्बानी, किसी टाटा, किसी अदानी और किसी ऐसे ही पूंजीपति-उद्योगपति को दे दी जाएगी! आप बस अपने गांव की फोटो अपने बच्चों को दिखाते रहना कि कभी हमारा गांव ऐसा था. क्या टिहरी में ऐसा नहीं हुआ?


धरना आयोजक — उत्तराखंड चिंतन; उत्तराखंड परिवर्तन पार्टी; उत्तराखंड क्रांति दल, दिल्ली; थिंक डेमोक्रेसी इंडिया; क्रिएटिव उत्तराखंड-म्यर पहाड़; अल्मोड़ा ग्राम कमेटी, दिल्ली; आल इंडिया पीपल्स फोरम; इंकलाबी मजदूर केंद्र; नानीसार बचाओ संघर्ष समिति; हिमालय बचाओ आंदोलन

nanisaar2


Follow us: UttarakhandPanorama@Facebook and UKPANORAMA@Twitter

0 Comments

No Comments Yet!

You can be first to comment this post!

Leave a Reply

15 − 3 =