आखिर कब लगेंगे उत्तराखंड की इच्छाओं को हवाई पंख? Uttarakhand seeks better air connectivity for hilly region

आखिर कब लगेंगे उत्तराखंड की इच्छाओं को हवाई पंख? Uttarakhand seeks better air connectivity for hilly region


उत्तराखंड में 80% इलाका पहाड़ी है जहाँ बहुत से कसबे और गावं बड़े ही दूरदराज़ हैं जहाँ आना-जाना एक बहुत बड़ी चुनौती है, खासकर बरसातों और सर्दियों में। पहाड़ के निवासी जो बड़े महानगरों एवं विदेशों में रहते हैं उनकी यह मांग रही है की पहाड़ी इलाकों में भी हवाईअड्डे होने चाहिए जिससे उनको उत्तराखंड और अपने शहर और गावों में आने में सुविधा हो। देहरादून और पंतनगर को छोड़ कर अभी तक कहीं भी हवाई यातायात शुरू नहीं हुआ है। अब मुख्यमंत्री हरीश रावत और पूर्व के मुख्यमंत्रियों ने उत्तराखंड में हवाई यातायात को बढ़ावा देने के लिए केंद्र पर दबाव बढ़ाया है। क्या यह दबाव कुछ रंग लाएगा ये तो वक़्त ही बताएगा…


मु

ख्यमंत्री हरीश रावत ने केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री अशोक गजपति राजू से गुरूवार (June 30) को भेंट कर कहा कि पंतनगर एयरपोर्ट का वर्तमान में क्षमता से कम उपयोग हो रहा है। यहां से देहरादून-दिल्ली-लखनऊ व अन्य स्थानों के लिए अतिरिक्त हवाई सेवाएं प्रारम्भ किए जाने की आवश्यकता है। श्री रावत ने कहा पंतनगर एयरपोर्ट को निर्यात के लिए कार्गो हब के रूप में विकसित किया जा रहा है। यहां रिफ्यूल की सुविधाएं भी उपलब्ध कराए जाने की आवश्यकता है।


Naini-Saini-Airport
श्री रावत ने श्री राजू को नई सिविल एवियेशन पाॅलिसी में रीजनल कनेक्टीवीटी स्किम के लिए बधाई देते हुए कहा कि इससे अक्रियाशील हवाईपट्टियों को उपयोगी बनाने में सहायता मिलेगी। श्री रावत ने कहा वर्तमान में उत्तराखण्ड में तीन अन्य हवाई पट्टियों — पिथौरागढ़, चिन्यालीसौड़ (उत्तरकाशी) व गौचर(चमोली) — में भी छोटे एयरक्राफ्ट की सेवाएं शुरू की जा सकती हैं। इससे पर्यटन को बढ़ावा मिलने से पर्वतीय क्षेत्र की आर्थिक गतिविधियों व रोजगार में विस्तार होगा जिससेे स्थानीय लोगों को काफी लाभ होगा। मुख्यमंत्री श्री रावत ने चैखुटिया में भी एयरपोर्ट/एयरस्ट्रिप बनाए जाने का अनुरोध किया। इस पर केंद्रीय मंत्री ने कहा कि इसका सर्वेक्षण करवाकर समुचित कार्यवाही की जाएगी। इस अवसर पर  उत्तराखण्ड के स्थानिक आयुक्त एस0डी0शर्मा भी उपस्थित थे।


Pantnagar-Airport-in-Uttarakhand
CM Photo 01, dt, 30 June, 2016


Write to us at Uttarakhandpanorama@gmail.com

Follow us: UttarakhandPanorama@Facebook and UKPANORAMA@Twitter

0 Comments

No Comments Yet!

You can be first to comment this post!

Leave a Reply

eighteen − 1 =