प्रधानमंत्री से केंद्रीय विद्यालय आई०आई०पी० में संध्याकालीन कक्षाएं शुरू कराने की मांग

प्रधानमंत्री से केंद्रीय विद्यालय आई०आई०पी० में संध्याकालीन कक्षाएं शुरू कराने की मांग

प्रधानमंत्री से को पत्र लिख एन के गुसाईं ने लगाई गुहार केंद्रीय विद्यालय आई०आई०पी० में संध्याकालीन कक्षाएं शुरू कराने की मांग 

देहरादून, अप्रैल 30, 2017: केशर जन कल्याण समिति के अध्यक्ष एन के गुसाईं ने प्रधानमंत्री को पत्र लिख केन्द्रीय विधाय केंद्रीय विद्यालय आई०आई०पी०, मोहकमपुर, देहरादून में पूर्व की भाँति द्वितीय पाली (संध्याकालीन कक्षाएं) प्रारंभ करवाने की मांग की है। प्रधानमंत्री को संबोधित पत्र में गुसाईं ने लिखा है कि पूर्ववर्ती सरकारों की अदूरदर्शिता के कारण राज्य के सभी 10 पहाड़ी जनपदों से शिक्षा, रोजगार व चिकित्सा सुविधाओं के नितांत अभाव के कारण लोगों का राज्य बनने से पूर्व से लेकर आज तक राज्य के मैदानी जनपदों देहरादून, हरिद्वार व उधमसिंह नगर जनपदों की ओर पलायन बदस्तूर जारी है, फलस्वरूप शिक्षार्थियों का भारी दवाब भी इन तीन जिलों के विद्यालयों पर पड़ना स्वभाभिक है।

केंद्रीय विद्यालय आई०आई०पी०, मोहकमपुर, देहरादून में वर्ष 2010 से पूर्व प्रथम पाली के साथ साथ द्वितीय पाली की कक्षाएं भी चलती थी। तीन विधानसभा क्षेत्रों से जुड़े लगभग 10 से 15 ग्राम सभाओं की जनता की मांग हैं कि केंद्रीय विद्यालय आई०आई०पी०, मोहकमपुर में पूर्व की भाँती प्रथम पाली के साथ साथ द्वितीय पाली में भी पुनः कक्षा एक से कक्षा 12 तक की कक्षाओं का संचालन करवाया जाए।

वर्तमान में द्वितीय पाली में कक्षा सात से कक्षा बारह तक की कक्षाएं संचालित हो रही हैं। विद्यालय नए भवन में प्रवेश कर चुका है और वर्तमान में कक्षाएं इस भव्य भवन परिसर में संचालित हो रही हैं। तथा द्वितीय पाली को प्रारम्भ करने में किसी भी प्रकार की कोई कठिनाई नहीं है।

क्योंकि प्रथम पाली में सभी कक्षाएं सुचारू रूप से चल रही हैं तथा द्वितीय पाली का संचालन वर्ष 2004 में केंद्र सरकार की विशेष योजना के तहत किया गया था, द्वितीय पाली का वर्ष 2010 में प्रथम पाली के साथ समायोजन किया जाना केंद्रीय विद्यालय विस्तारीकरण नीति के विरुद्ध है।

गुसाईं ने प्रधानमंत्री को पत्र में लिखा है की कक्षा एक से बारहवीं तक की कक्षाओं में दाखिले के भारी दबाव के मद्देनजर विद्यालय में द्वितीय पाली की कक्षाओं (संध्याकालीन कक्षाओं) को शीघ्र खुलवाने हेतु सम्बंधित को निर्देशित करने की कृपा करेंगे ।


Write to us at Uttarakhandpanorama@gmail.com

Follow us: UttarakhandPanorama@Facebook and UKPANORAMA@Twitter

0 Comments

No Comments Yet!

You can be first to comment this post!

Leave a Reply

nineteen − 3 =