‘अटल आयुष्मान उत्तराखंड योजना’ से सबको मिलेगा स्वास्थ्य लाभ Uttarakhand CM promises medical care to all through Atal Ayushman Scheme

‘अटल आयुष्मान उत्तराखंड योजना’ से सबको मिलेगा स्वास्थ्य लाभ Uttarakhand CM promises medical care to all through Atal Ayushman Scheme


मुख्यमंत्री श्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने भारत रत्न व पूर्व प्रधानमंत्री स्व0 अटल बिहारी वाजपेयी जी के जन्म दिवस पर योजना का शुभारम्भ किया। सभी प्रदेशवासियों को निशुल्क स्वास्थ्य सुविधा देने वाला उत्तराखंड पहला राज्य। प्रति परिवार प्रति वर्ष 5 लाख रूपये के निशुल्क ईलाज की मिलेगी सुविधा। पंजीकृत अस्पतालों में जल्द ही बच्चों व बुजुर्गों को निशुल्क ओपीडी भी। जल्द ही प्रदेश में पूरी तरह से लागू हो जाएगी योजना। मान्यता प्राप्त पत्रकारों को सरकारी कर्मचारियों के समान मिलेगा योजना में लाभ। 26 जनवरी से पूरी तरह समर्पित एयर एम्बुलेंस शुरू होगी। 

दिसंबर 25, 2018: मंगलवार का दिन प्रदेश की जनता के लिए मंगलकारी बन कर आया। उत्तराखण्ड राज्य के निर्माता भारत रत्न व पूर्व प्रधानमंत्री स्व. अटल बिहारी वाजपेयी जी के जन्म दिन पर मुख्यमंत्री श्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने ‘‘ का शुभारम्भ किया। इस योजना के लागू होने से उत्तराखंड पहला राज्य है, जहां सभी प्रदेश वासियों को निशुल्क स्वास्थ्य सुरक्षा प्रदान की जा रही हो।

उत्तराखंड राज्य के प्रणेता स्वर्गीय अटल बिहारी वाजपेयी जी के जन्म दिवस पर शुरू की जा रही यह योजना स्वास्थ्य के क्षेत्र में क्रांतिकारी साबित होगी। मुख्यमंत्री ने विभिन्न लाभार्थियों को गोल्डन कार्ड वितरित किए। उनकी उपस्थिति में योजना के तहत चिन्हित विभिन्न अस्पतालों के साथ एमओयू का आदान-प्रदान भी किया गया। मुख्यमंत्री ने योजना के तहत जल्द ही बच्चों व बुजुर्गों के लिए निशुल्क ओपीडी की भी सुविधा देने व 26 जनवरी से राज्य में पूरी तरह से समर्पित एयर-एम्बुलेंस शुरू करने की घोषणा की।

देहरादून के बन्नू स्कूल में आयेाजित कार्यक्रम में सुबह से ही लोगों की भीड़ उमड़ पड़ी थी। अटल आयुष्मान उत्तराखण्ड योजना के तहत अपना पंजीकरण कराने व गोल्डन कार्ड बनाने के लिए काउंटरों पर लोग लाईनों में खड़े हो गए। बिना किसी परेशानी के अपने पंजीकरण व गोल्डन कार्ड बनते देखकर लोगों की खुशी का ठिकाना नहीं था। उनका उत्साह देखते ही बनता था।

मुख्यमंत्री श्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने योजना के शुभारम्भ की घोषणा की। उन्होंने अटल आयुष्मान उत्तराखण्ड योजना की वेबसाईट व एप का औपचारिक शुभारम्भ किया। उन्होंने अनेकों लाभार्थियों को गोल्डन कार्ड भी वितरित किए। उनकी उपस्थिति में योजना के अंतर्गत चयनित विभिन्न अस्पतालों के साथ एमओयू का आदान-प्रदान किया गया।

हजारों की संख्या में उपस्थित लोगों को सम्बोधित करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि आज का दिन बहुत बड़ा है। आज परम श्रद्धेय अटल जी का जन्म दिवस है और मंगलवार का दिन भी है। ऐसे मंगलकारी दिन को मंगलकारी योजना का शुभारम्भ किया गया है। हमारे शास्त्रों में ‘सर्वे भवन्तु सुखिनः सर्वे संतु निरामया’ कहा गया है। राज्य सरकार भी इसी भावना पर काम कर रही है। उत्तराखण्ड की विषम भौगोलिक परिस्थितियों में हम तकनीक का उपयोग करने का प्रयास कर रहे हैं। हमने टेली रेडियोलाॅजी, टेली मेडिसिन की सुविधा अनेक दूरस्थ चिकित्सा केंद्रों में प्रारम्भ की है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी ने आयुष्मान भारत योजना प्रारम्भ की। उसी प्रेरणा से हमने सोचा कि ऐसी क्या योजना शुरू की जाए कि सभी प्रदेशवासियों को निशुल्क ईलाज की सुविधा दे सकें। कोई भी व्यक्ति धन के अभाव में ईलाज से वंचित न रहे। इसीलिए हमने ‘अटल आयुष्मान उत्तराखण्ड योजना’ में राज्य के सभी परिवारों को कवर किया है और इसमें कैशलैस ईलाज का प्रबंध किया है। इन्श्योरेंस में आने वाली दिक्कतों को देखते हुए योजना को ट्रस्ट मोड में संचालित कर रहे हैं। योजना को बहुत ही सरल बनाने की कोशिश की गई है। सच्चा सुख निरोगी काया। हमारी कोशिश है कि प्रदेशवासियों का अच्छा स्वास्थ्य रहे। गम्भीर बीमारी में लोगों को काफी धन खर्च करना पड़ता है। यहां तक कि बहुत से लोग अपने घर, सम्पत्ति, गहने भी गिरवी रख देते हैं। परंतु अब इस कैशलैस योजना से लोगों को बहुत सहूलियत मिलेगी। बिना पैसे के भी ईलाज सम्भव होगा।

मुख्यमंत्री ने कहा कि 23 लाख परिवार इससे लाभान्वित होंगे। 99 सरकारी व 66 प्राईवेट चिकित्सा संस्थान इसमें चयनित हैं। 1350 गम्भीर बिमारियों का इसमें ईलाज हो सकेगा। सरकारी अस्पतालों को प्रोत्साहन राशि दी जाएगी। उम्मीद है कि आने वाले वर्षों में दूरस्थ क्षेत्रों में चिकित्सा सुविधा देने के लिए निजी अस्पताल भी आगे आएंगे। योजना के तहत जल्द ही बच्चों व बुजुर्गों के लिए निशुल्क ओपीडी की भी सुविधा दी जाएगी।  26 जनवरी से राज्य में पूरी तरह से समर्पित एयर-एम्बुलेंस शुरू की जाएगी। अभी भी हम आवश्यकता होने पर गम्भीर रोगियों के लिए हेलीकाप्टर उपलब्ध करवाते हैं। परंतु एयर एम्बुलेंस पूरी तरह से इसी काम के लिए समर्पित होगी। मान्यता प्राप्त पत्रकारों को अटल उत्तराखण्ड आयुष्मान योजना के तहत सरकारी कर्मचारियों की भांति ही सुविधा दी जाएगी।

योजना का विवरण

भारत कीें आर्थिक सामाजिक एवं जातीय जनगणना 2011 में चयनित लभग 10 करोड परिवारों को स्वास्थ्य सुरक्षा प्रदान करने के लिये प्रधानमंत्री भारत सरकार द्वारा आयुष्मान भारत-प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना  प्रारम्भ की गयी।  इस जनकल्याणकारी योजना के अन्तर्गत उत्तराखण्ड के लगभग 5.37 लाख परिवारों को चिन्ह्ति किया गया  जिन्हें प्रतिपरिवार पांच लाख रूपये तक प्रतिवर्श की निःशुल्क चिकित्सा सुविधा एवं उपचार देने का कार्य प्रारम्भ हो गया है।

मुख्यमंत्री श्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत के निर्देश पर आयुष्मान भारत योजना  के दायरे को बढाते हुये उत्तराखण्ड सरकार द्वारा अटल आयुष्मान उत्तराखण्ड योजना प्रारम्भ की गई है। जिसमें उत्तराखंड केे सभी परिवारों को प्रतिवर्ष  पांच लाख रूपये तक की चिकित्सा सुविधा उपलब्ध करायी जायेगी। इस प्रकार उत्तराखण्ड राज्य मेें  लगभग 23 लाख निवासरत परिवारों को निशुल्क चिकित्सा सुविधा प्राप्त हो सकेगी।

यह सुविधा राज्य के सरकारी चिकित्सालयों एवं सूचीबद्ध निजी चिकित्सालयों में दी जायेगी। आपात स्थिति में सूचीबद्ध निजी चिकित्सालयों में उपचार के लिये सीधे भर्ती होने पर यह सुविधा मिलेगी। लेकिन अन्य मामलों में सरकारी चिकित्सालय से रेफर करने के आधार पर निजी चिकित्सालयों से उपचार होगा।

अटल आयुष्मान उत्तराखण्ड योजना के सूचारू रूप से संचालन हेतु सरकार द्वारा सभी सरकारी चिकित्सालयों के साथ-साथ निजी चिकित्सालयों को सूचीबद्ध करने का कार्य किया जा रहा है तथा सरकार का प्रयास है कि विभिन्न प्रकार की विशेषज्ञताओं के अनुसार चिकित्सालयों को सूचीबद्ध कर लिया जाये।

इस योजना को सरल एवं सहज बनाने के लिये टोल फ्री हेल्प लाईन 104, मोबाईल एप (अटल आयुष्मान उत्तराखण्ड योजना) एवं वेब साईट http//ayushmanuttarakhand.org  पर जन सामान्य लाभार्थियो की शिकायत, सुझाव आदि प्राप्त किये जा रहे है। अटल आयुष्मान उत्तराखण्ड योजना जन स्वास्थ्य के क्षेत्र में एक महत्वपूर्ण पहल है।

योजना की प्रमुख विशेषताऐं

  • उत्तराखण्ड राज्य के समस्त परिवारों को बीमार होने पर चिकित्सालय में भर्ती होने की दशा में इस योजना का लाभ मिलेगा।
  • चिकित्सा उपचार की सुविधा के लिये सरकारी एवं प्राईवेट अस्पतालों का चिन्हित किया गया है।
  • पात्र लाभार्थी परिवारों के सभी उम्र के सभी सदस्य इस योजना के अन्तर्गत लाभ ले सकते है।
  • लाभार्थी परिवार अपनी एवं परिवार के सदस्यों का विवरण मोबाईल एप-(अटल आयुष्मान उत्तराखण्ड योजना) के माध्यम से प्राप्त कर सकते है।
  • ऐसे परिवार जो योजना में चिन्ह्ति नहीं है का पंजीकरण मोबाईल एप (अटल आयुष्मान उत्तराखण्ड योजना) एवं वेब साईट  http//ayushmanuttarakhand.org के माध्यम से किया जायेगा।
  • उपचार के समय आपके पास कोई एक फोटो पहचान पत्र अवश्य होना चाहिए।
  • योजना में चयनित परिवारों को उनके डाटा बेस के अनुसार प्रमाणित कर एवं सम्बन्धित के फोटो पहचान पत्र के अनुसार उपचार मिलेगा।
  • योजना में कुल 1350 (तेरह सौ पचास) प्रकार के रोग अवस्थाओं से सम्बन्धित पैकेजों का चयन किया गया है।
  • हृदय रोग सम्बन्धित कुल 130 पैकेज, नेत्र रोग सम्बन्धित 42 पैकेज, नाक कान गला रोग सम्बन्धित 94 पैकेज, हडडी रोग सम्बन्धित 114 पैकेज, मूत्र रोग सम्बन्धित 161 पैकेज, महिला रोग सम्बन्धित 73 पैकेज, शल्य रोग सम्बन्धित 253 पैकेज, न्यूरो सर्जरी, न्यूरो रेडियोलोजी एवं फ्लास्टिक सर्जरी, बर्न रोग सम्बन्धित 115 पैकेज, दन्त रोग सम्बन्धित 9 पैकेज, बाल रोग सम्बन्धित 156 पैकेज, मेडिकल रोग सम्बन्धित 70 पैकेज, कैन्सर रोग सम्बन्धित 112 पैकेज एवं अन्य 21 पैकेजों का चयन किया गया है।
  • मरीजो की सहायता के लिये सूचीबद्ध चिकित्सालयों में आरोग्य मित्र तैनात रहेंगे। जिनके द्वारा भर्ती मरीजो को सहयोगध्मार्गदर्शन में मदद मिलेगी। सूचीबद्ध चिकित्सालयो में तैनात आरोग्य मित्र का मोबाईल नम्बर चिकित्सालय के हेल्प डेस्क पर उपलब्ध रहेगा।




Atal Ayushman Uttarakhand Scheme launched in the state

Chief Minister Mr. Trivendra Singh Rawat launched the scheme on the birth anniversary of Bharat Ratna and former Prime Minister Atal Bihari Vajpayee . Uttarakhand becomes the first state to provide free health cover to all its’ residents. Every family will get the facility to get free treatment up to Rs. Five lakh per annum. Soon free OPD for children and old in registered hospitals.The scheme will be implemented in the entire state soon. Accredited journalists to get the benefits of the scheme like government employees. Dedicated air ambulances to start from January 26…

Tuesday was a blessed day for the people of the state. On the occasikon of birth anniversary of creator of Uttarakhand, Bharat Ratna and former Late Prime Minister Mr. Atal Bihari Vajpayee, Uttarakhand Chief Minister Mr. Trivendra Singh Rawat launched the “ Atal Ayushman Uttarakhand Yojna”. With the implementation of the scheme, Uttarakhand has become the first state where all the residents will be provided free health security by the state.  The health scheme started on the birth anniversary of creator of Uttarakhand Late Atal Bihari Vajpayee will prove to be revolutionary  in the health sector.

The Chief Minister distributed golden cards to the beneficiaries on the occasion. In his presence, the MOUs with identified hospitals for the scheme were also exchanged. The Chief Minister also announced to start free OPDs for children and old and start of dedicated air ambulances in the entire state from January 26.

There was huge rush of people at the launch function of the scheme held at bannu school in Dehradun. Large number of people were seen standing in queues at the counters to get themselves registered for “Atal Ayushman Uttarakhand Yojna” and to get golden cards. The people were happy and enthused with the facts that their cards were being made without any hassles.

The Chief Minister Mr. Trivendra Singh Rawat announced the launch of the scheme. He also formally inaugurated the website and app of “ Atal Ayushman Uttarakhand Yojna” on the occasion . He also distributed golden cards to several beneficiaries and the MOUs with identified hospitals for the scheme were also exchanged in his presence.

Addressing the gathering of thousands, Chief Minister said that it was a big day today since it is the birth anniversary of respected Ayal ji and a Tuesday also and a welfare scheme has also been launched today.  He said that our  ‘Shastras’ said “ Sarve Bhavantu Sukhin, Sarve Santu Niramaya” and the state government is also working on the same philosophy of good of everyone. He said that in Uttarakhand having tough geographical circumstances, his government has been trying to use technology and has started tele-radiology, tele-medicine facilities in health centres located in far off places.

Chief Minister said that Prime Minister Mr. Narendra Modi has started “Ayushman Bharat Yojna” and Uttarakhand taking inspiration from him has started a similar scheme to that every residents of the state could get free health facilities and none is deprived of medical treatment due to paucity of funds. “We have started “ Atal Ayushman Uttarakhand Yojna” to give health cover to each and every family of the state and ensure cashless treatment. Taking into consideration the problem associated with insurance, the scheme will be run in trust mode. Every effort has been made to make the scheme simple. It is our endeavor that every residents of the state is healthy. For serious ailments, people had to spend a lot and sometimes sell everything they own but with this cashless scheme, people will get benefit and they could get treatment without money, “ Chief Minister said.

Chief Minister said that 23 lakh families will be benefitted. A total of 99 government and 66 private health institutes have been identified for the scheme and people would get treat of 1350 serious ailments. The government hospitals will be given encouragement incentives. He hoped that in future private hospitals will come forward to provide health facilities in far off places in the state. The children and old will also get free OPD facility under the scheme soon. A dedicated air ambulance service will also start in the state from January 26 and people are still being airlifted by helicopter if necessary in case of serious ailments but air ambulance will be fully dedicated to airlift patients. The accredited journalists will also get the benefit of the scheme like state government employees.

Brief of The Yojana

Ayushman Bharat-Pradhan Mantri Jan Arogya Yojana has been started by the Prime Minister, Government of India, to provide healthcare security to nearly 10 crore families selected in the Socio Economic and Caste Census 2011. About 5.37 lakh families of Uttarakhand have been identified under this Public Welfare Scheme and work to provide free health facilities and medical treatment up to Rs 5 lakh annually has been started.

On the directions of the Chief Minister, expanding the scope of Ayushman Bharat Yojana, Uttarakhand government is starting Atal Ayushman Uttarakhand Yojana in which medical facilities upto Rs 5 lakh per annum will be provided to all the families of Uttarakhand. In this manner, about 23 lakh resident families in Uttarakhand will get free medical treatment.

This facility will be provided in state government hospitals and listed private hospitals. In case of emergency, this facility will be provided on direct admission in listed private hospitals. But in other cases, treatment in private hospitals will be available on the basis of referral from the government hospital.

In order to run the Atal Ayushman Uttarakhand Yojana in a smooth manner, the government is working to list all government hospitals as well as private hospitals and it is the effort of the government that according to various types of specializations, the hospitals will be listed.

In order to make this Yojana simple and smooth, complaints and suggestions of beneficiaries from general masses are being received on the Toll Free Help Line 104, Mobile App (Atal Ayushman Uttarakhand Yojana) and website http//ayushmanuttarakhand.org. Atal Ayushman Uttarakhand Yojana is an important initiative in the public health sector.

Key features of the Yojana

  • In case of felling sick, all families of Uttarakhand will get the benefit of the Yojana in case of getting admitted in a hospital.
  • For the medical treatment facility, government and private hospitals have been identified.
  • All members of every age group of the eligible beneficiary families can avail benefits under this Yojana.
  • The beneficiary family can get it’s as well as family member details through the Mobile App (Atal Ayushman Uttarakhand Yojana).
  • Such families which are not identified in the Yojana will be registered through Mobile App (Atal Ayushman Uttarakhand Yojana) and website http// ayushmanuttarakhand.org
  • You must have a Photo Identity Card at the time of treatment.
  • The families selected in the Yojana will get treatment after certifying according to their data base and according to the Photo Identity Card of the concerned.
  • Packages related to the 1350 types of diseases have been selected in the Yojana.
  • 130 packages related to cardiovascular disease, 42 packages related to eye disease, 94 related to nose ear, throat disease, 114 package related to bone disease, 161 package related to urinary disease, 73 package related to women disease, 253 package related to surgical disease, 115 package related to neuro surgery, neuro Radiology and plastic surgery, burn disease, 9 package related to dental disease, 156 diseases related to hair disease, 156 package related to pediatric disease, 70 package related to medical disease, 112 package related to cancer disease and 21 other package have been selected.
  • For the assistance of the patients, Arogya Mitra will be deployed in the listed hospitals through which the patients undergoing treatment in the hospital will get help and guidance. Mobile Number of in the listed hospitals will be available at the help desk of the hospital.

    Write to us at Uttarakhandpanorama@gmail.com

    Follow us: UttarakhandPanorama@Facebook and UKPANORAMA@Twitter

0 Comments

No Comments Yet!

You can be first to comment this post!

Leave a Reply

19 + six =